कुलपति का संदेश

VC Image

Air Vice Marshall

Nalin Kumar Tandon AVSM, VM (Retd.)

Vice Chancellor

वर्ष 2013 में संसद के एक अधिनियम द्वारा स्‍थापित राजीव गांधी राष्ट्रीय विमानन विश्वविद्यालय (आरजीएनएयू), भारत का पहला समर्पित विमानन विश्वविद्यालय है। विश्वविद्यालय 2016 से कार्यरत है और इसका उद्देश्य भारत में नागर विमानन क्षेत्र में बढ़ती शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करना है। इस विश्वविद्यालय का उद्देश्य विमानन प्रबंधन, नीति, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, विमानन पर्यावरण, विमानन और संबंधित क्षेत्रों पर सुरक्षा और सुरक्षा नियमों के क्रियान्‍वयन के क्षेत्र में प्रशिक्षण में उत्कृष्टता प्राप्त करने पर केंद्रित एक सर्वोच्च संस्थान होना है।

जैसा कि 2018 तक भारत विश्‍व में विमानन क्षेत्र में तीसरा सबसे बड़ा बाजार बन जाएगा, और 2030 तक सबसे बड़ा बाजार बनने के लिए अग्रसर है। इस तरह की वृद्धि दर, इस उद्योग में शिक्षित और कुशल श्रमशक्ति की आवश्यकता को अनिवार्य बनाती है। इसलिए, सरकार और उद्योग के बीच एक करीबी साझेदारी की इस आवश्यकता को पूरा करने के लिए आरजीएनएयू संपर्क का प्रयास करता है। अपने प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिए, आरजीएनयूयू ने रोलस रॉयस, एमआरओ एसोसिएशन ऑफ इंडिया, बर्ड ग्रुप, यूएस-भारत एसीपी और जीएमआर एविएशन अकादमी के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं।

आरजीएनयूयू ने सितंबर 2017 तक सफलतापूर्वक दो कम अवधि के पाठ्यक्रमों को पूरा किया है। पहले विमानन उद्योग में वरिष्ठ प्रबंधन के उद्देश्य से विमानन प्रबंधन में एक कार्यकारी विकास कार्यक्रम (ईडीपी) था। दूसरा, सुरक्षा प्रणाली के कार्यान्वयन पर एक प्रबंधन विकास कार्यक्रम (एमडीपी) था, जो हवाईअड्डे, एयरलाइंस, नियामक प्राधिकरणों, जमीन संभालने वाली एजेंसियों और कार्गो रसद कंपनियों से मध्य स्तर के पेशेवरों के लिए है। इन दोनों कार्यक्रमों को उद्योगों और प्रतिभागियों की तरफ से सकरात्‍मक प्रतिक्रिया मिली है। विश्वविद्यालय विमानन क्षेत्र में निजी कंपनियों के लिए विशेष पाठ्यक्रम प्रदान करने के लिए भी उत्सुक है।

जैसा कि भारत में विमानन क्षेत्र के विकास के बाद, आरजीएनयूयू शैक्षणिक और तकनीकी नवाचार के साथ स्वयं को अद्यतन रखने के लिए उत्सुक रहता है और इसके छात्रों और हितधारकों के लिए एक महत्वपूर्ण योगदान निभाने की पेशकश करता है।